UPSC, IPS, IAS, PSC, SSC, ACP का फुल फॉर्म


इस आर्टिकल में हम कुछ ऐसे संस्थाओं और पदों के बारे में जानेगे जिन के बारे में आप ने अक्सर सुना होगा जैसे आईपीएस (IPS), आइएएस (IAS), यूपीएससी (UPSC), पीएससी (PSC), एसएससी (SSC), एसीपी (ACP) हम इन सब पदों का फुल फॉर्म और मतलब जानेंगे कि यह पद किस शाखा से सबंधित हैं इसके इलावा इन से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी भी आपसे साझा की जाएगी।

UPSC, IPS, IAS, PSC, SSC, ACP full form in hindi

UPSC का फुल फॉर्म

UPSC का पूरा नाम “Union Public Service Commission” है और हिंदी में इस को “संघ लोक सेवा आयोग” के नाम से जाना जाता है। यह केंद्र सरकार की एक एजेंसी है जिसके द्वारा केंद्र सरकार के अधिकारियों की भर्ती का आयोजन किया जाता है। इसके द्वारा हर साल सरकारी पदों की भर्ती के लिए परीक्षा का आयोजन किया जाता है।

युपीएससी की स्थापना एवं अन्य जानकारी

इस कि स्थापना 1 अक्टूबर 1926 को की गई थी और 1950 में भारत के संविदान के अनुसार खास दर्जा दिया गया। यह राष्ट्रीय स्तर तक कि परीक्षा का भी आयोजन करती है। आईपीएस और आईएएस जैसे उच्च पदों के लिए भी यूपीएससी परीक्षा के माध्यम से चुनाव होता है। विभिन्न पदों के लिए चयन प्रक्रिया अलग अलग होती है। अगर आप किसी बड़े सरकारी पद पर नोकरी करना चाहते हो तो आप को यूपीएससी के माध्यम से परीक्षा देनी चाहिए। 

UPSC के लिए योग्यता

आयु सीमा – यूपीएससी परीक्षा देने की लिए आपकी आयु सीमा 21 से 32 साल जनरल श्रेणी के लोगों के लिए और एससी / एसटी श्रेणी के लोगों के लिए 21 से 37 साल तक कि आयु होनी चाहिए।

शैक्षणिक योग्यता – यह परीक्षा देने के लिए आपका 12वीं के बाद स्नातक पास होना जरूरी है जिसके बाद आप इस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हो।

यूपीएससी के माध्यम से उच्च स्तर के लिए भर्तियां निकाली जाती है तो इस लिए यह परीक्षा भी उतनी ही कठिन है इसमे हर साल लाखों लॉग आवेदन करते हैं और कुछ लोग ही इस परीक्षा को पास कर पाते हैं अगर आप यह परीक्षा देना चाहते हो तो आपको इसके लिए बहुत मेहनत से तैयारी करनी होगी। अगर आप मेहनत करते हो तो यह परीक्षा आप क्वालीफाई कर सकते हो।

आईपीएस का फुल फॉर्म

IPS का पूरा नाम Indian Police Service” होता है जिसे हिंदी में “भारतीय पुलिस सेवा” के नाम से जाना जाता है। आईपीएस का काम भारत में होने वाले क्राइम को रोकना और उन पर नियंत्रण रखने का होता है। आईपीएस ऑफिसर का पद एक उच्च स्तर का महत्वपूर्ण पद होता है इस लिए इस पद तक पहुंचने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है।

आईपीएस ऑफिसर कैसे बने

आईपीएस ऑफिसर पद के लिए चुनाव एक बहुत कठिन परीक्षा द्वारा किया जाता है जो परीक्षा हर साल UPSC द्वारा आयोजित की जाती है यूपीएससी के बारे में हम आपको पहले ही जानकारी दे चुके हैं। 

अगर आप आईपीएस ऑफिसर बनना चाहते हो तो आपको कुछ बातों का खास ध्यान रखना होगा जैसे कि आप जानते ही होंगे सरकारी पद पर जाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है वैसे ही आईपीएस की परीक्षा कोई आम परीक्षा नही है, इतने उच्च पद पाने के लिए कठिन परीक्षा से होकर ही आप आईपीएस बन सकते हो। आईपीएस परीक्षा देने के लिए नीचे दी गयी योग्यता होना अनिवार्य है-

आईपीएस बनने के लिए योग्यता
शैक्षणिक योग्यता: आईपीएस की परीक्षा में बैठने के लिए आपका किसी भी विश्वविद्यालय से स्नातक (Graduation) होना आवश्यक है।

आयु: आईपीएस परीक्षा के लिए आपकी आयु कम से कम 21 वर्ष होनी अनिवार्य है और अधिकतम 35 वर्ष यह एससी/एसटी के लिए है। जनरल श्रेणी के लिए अधिकतम 30 वर्ष और ओबीसी श्रेणी के लिए अधिकतम 33 वर्ष आयु सीमा रखी गयी है।

इसके अलावा उम्मीदवार में शारीरिक योग्यता होना भी जरुरी है जैसे – लम्बाई, चेस्ट, नेत्र द्रष्टि

आईपीएस परीक्षा को तीन चरणों में पूरा किया जाता है:

  1. प्रारंभिक परीक्षा
  2. मुख्य परीक्षा
  3. साक्षात्कार

अगर आप इन तीनों चरणों को सफलता से क्वालीफाई कर लेते हो तो आप IPS ऑफिसर बनने के लिए तैयार हो जाते हो

आईएएस का फुल फॉर्म

IAS का पूरा नाम “Indian Administrative Service” होता है और इसको हिंदी में “भारतीय प्रशासनिक सेवा” के नाम से जाना जाता है। IAS एक उच्च स्तर की परीक्षा है जिसके आधार पर आईएएस ऑफिसर का चुनाव किया जाता है। आईएएस से जुड़े पद सब उच्च स्तर के पद है इसलिए आईएएस की परीक्षा भी उच्च स्तर की कठिन परीक्षा होती है।

आईएएस कैसे बने

आईएएस के पास पूरे जिले की शक्ति होती है जिसके अंतर्गत वो सब का काम देखता है जिला पुलिस के भी ऊपर का पद आईएएस होता है इस लिए इतने बड़े पद की कमान किसी को ऐसे ही नही मिल जाती इस पद पर पहुंचने के लिए बहुत ही कठिन परीक्षा रखी गयी है ताकि इस पद का सही हकदार मिल सके हर साल लाखों उम्मीदवार यह परीक्षा देते हैं।

भारत में सिविल सेवा परीक्षा को सबसे कठिन परीक्षा माना जाता है। इसके अंडर ही आईएएस की परीक्षा को आयोजित किया जाता है। आईएएस की परीक्षा देने के लिए आपकी योग्यता और आयु नीचे बताए अनुसार होना चाहिए।

आईएएस बनने के लिए योग्यता

शैक्षणिक योग्यता: आपके पास भारत के किसी भी विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री होनी चाहिए। और अगर आप स्नातक के अंतिम ईयर में हो तो भी इस परीक्षा के लिए आवेदन किया जा सकता है। और इसमे आपके न्यूनतम अंक पचास प्रतिशत होने अनिवार्य है।

आयु: अगर आप जनरल श्रेणी से हो तो आपकी आयु 21 से 32 के बीच होनी चाहिए और अगर आप ओबीसी से हो तो आपकी आयु 21 से 35 साल तक होनी चाहिए। एससी/एसटी श्रेणी वालों के लिए आयु सीमा सबसे ज्यादा है 21 से 37 साल तक कि होने पर आप आईएएस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हो।

आईएएस की परीक्षा को क़वालीफ़ाई करने के लिए आपको तीन चरणों से गुजरना होगा।

  1. प्रारंभिक परीक्षा
  2. मुख्य परीक्षा
  3. साक्षात्कार

PSC का फुल फॉर्म

PSC का पूरा नाम “Public Service Commission” होता है जिसको हिंदी में “लोक सेवा आयोग” कहा जाता है। यह एक परीक्षा है जो लोक सेवा आयोग द्वारा संघ और राज्य स्तर पर आयोजित की जाती है। इसको संविधान द्वारा स्थापित किया गया है जिसका कार्य सरकारी अधिकारियों की नियुक्ति करना और नियुक्ति के लिए राज्यों को सलाह देना है।

पीएससी द्वारा अलग अलग स्तर और परीक्षा का आयोजन किया जाता है प्रत्येक राज्य के लिए इस परीक्षा आयोजन के नियम विभिन्न है। पीएससी परीक्षा के अंतर्गत SDM, DSP आदि पदों की नियुक्ति होती है।

PSC परीक्षा भी तीन चरणों में होती है :

  1. प्रारंभिक परीक्षा
  2. मुख्य परीक्षा
  3. साक्षात्कार

SSC का फुल फॉर्म

SSC का फुल फॉर्म “Staff Selection Commission” होता है जिसको हिंदी में “कर्मचारी चयन आयोग” कहा जाता है। यह केंद्र सरकार के अंतर्गत काम करती है और अलग अलग पदों पर नियुक्ति के लिए भारत में परीक्षा का आयोजन करती है। एसएससी में बहुत अच्छे पदों के लिए परीक्षा आयोजित की जाती है जिसके चलते इसमे बहुत ज्यादा लोग आवेदन करते हैं।

एसएससी के अंतर्गत अलग अलग परीक्षा का आयोजन किया जाता है जिनकी सूची इस प्रकार है –

  • SSC CGL – Combined Graduate Level
  • SSC CHSL – Combined Higher Secondary Level
  • SSC JE – Junior Engineer Examination
  • SSC CAPF – Central Industrial Security Force
  • SSC JHT – Junior Hindi Translator
  • SSC MTS – Multi-Tasking Staff
  • SSC Stenographer
  • SSC GD – Constable Exam

SSC की विभिन्न परीक्षाओं में विभिन्न पदों के लिए आवश्यक योग्यता भी अलग अलग होती है। 

SSC CGL में चार चरणो में परीक्षा होती है
चरण 1- यह ऑनलाइन एग्जाम होता है जिसमे 100 विकल्पिक प्रश्न पूछे जाते हैं  जो 200 अंक के होते हैं और इसमें माइनस मार्किंग भी होती है मतलब इसमे गलत जवाब देने पर नियम अनुसार अंक काट लिए जाते हैं।

चरण 2- इसमे एक ही दिन दो अलग अलग पेपर लिए जाते हैं।

चरण 3- इसमे 100 अंक का एग्जाम होता है जो एक घंटे में पूरा करना होता है।

चरण 4- यह कुछ खास एग्जाम वाले पदों के लिए ही होता है जिसमे टाइपिंग टेस्ट लिया जाता है।

एसीपी का फुल फॉर्म

ACP का पूरा नाम “Assistant Commissioner of Police” होता है जिसको हिंदी में “सहायक पुलिस आयुक्त” के नाम से जाना जाता है। यह राज्य पुलिस के अधीन आईपीएस से जुड़ा हुआ पद है। एसीपी के पास राज्य पुलिस का नियंत्रण और कानूनी व्यवस्था को बनाये रखने की शक्ति होती है। एसीपी राज्य में हो रहे जुर्म और घटनाओं को रोकने का कार्य करता है। एसीपी अपने अधिकार क्षेत्र की पुलिस की सहायता से ACP कार्य करता है।

एसीपी कैसे बने

ACP बनने के लिए किसी भी तरह की कोई सीधी भर्ती नही निकाली जाती और ना ही कोई एग्जाम होता जिसे देकर आप एसीपी के पद पर सीधे पहुंच जाएं इसके लिए दो तरीके हैं जिससे मेहनत कर आपको इस पद पर पहुंचना होगा।

पहला तो आप UPSC के एग्जाम में उच्च रैंक प्राप्त करके एसीपी बन सकते हो अथवा दूसरे तरीके में आप पुलिस विभाग में नियुक्ति हो कर अपने काम के हिसाब से प्रमोट होकर एसीपी के पद तक पहुंच सकते हो।

आपको ACP बनने के लिए स्नातक पास होना जरूरी है और आपकी आयु 21 से 30 वर्ष के बीच होनी चाहिए जिसमे SC/ST/OBC को अतरिक्त छूट मिलती है। 

Final Words: आप अगर किसी भी सरकारी और गैर सरकारी उच्च पद को हासिल करना चाहते हो तो उसके लिए आपको मेहनत करनी होगी। क्योंकि ऊपर बताई गई सभी परीक्षाएं कठिन तो है लेकिन इनको क़वालीफ़ाई करना नामुमकिन भी नही है अगर आप मेहनत लगन से किसी भी पद को पाने की ठान लेते हो तो आप किसी भी परीक्षा को पास कर सकते हो। अगर आपको ये जानकारी पसंद आयी तो इस पोस्ट को फेसबुक और WhatsApp पर शेयर करें।
शेयर करें

Leave a Comment