श्लोक का अर्थ: यत्र नार्यस्तु पूज्यंते रमंते तत्र देवता

यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता अगर आप धार्मिक कार्यक्रमों में रुचि रखते हैं तो आपने यह श्लोक कहीं ना कहीं जरूर सुना होगा लेकिन क्या आपको इसका मतलब पता है? अगर आपको इसका मतलब नहीं पता तो इस पोस्ट को पूरा पढ़े हैं क्योंकि यहां हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे । … Read moreश्लोक का अर्थ: यत्र नार्यस्तु पूज्यंते रमंते तत्र देवता