प्रीपेड और पोस्टपेड का मीनिंग इन हिंदी


हेलो दोस्तों, क्या आपने कभी Prepaid और Postpaid payment के बारे में सुना है? क्या आपको पता है कि प्रीपेड और पोस्टपेड में क्या अंतर है?

आज हम आपको इसके बारे में जानकारी देने वाले है की प्रीपेड और पोस्टपेड क्या होता है?

Prepaid और Postpaid का मीनिंग इन हिंदी

प्रीपेड और पोस्टपेड

प्रीपेड का मतलब क्या है?

प्रीपेड सर्विस में उपभोक्ता को किसी सर्विस को उपयोग करने से पहके ही बिल का पेमेंट करना होता है जिसके बाद एक पूर्वनिर्धारित लिमिट और समय सीमा के अनुसार उपभोक्ता उस सर्विस का उपयोग कर सकता है।

उदाहरण : हम किसी रिचार्ज शॉप से अपने सिम में रिचार्ज करवाते है जिसका भुगतान हमें पहले करना होता है तथा बैलेंस और डाटा पैसे देने के बाद में मिलता है।

पोस्टपेड का मतलब क्या है?

पोस्टपेड सर्विस में उपभोक्ता को किसी सर्विस को उपयोग करने से पहके बिल का पेमेंट नहीं करना पड़ता, उपभोक्ता उस सर्विस का उपयोग अपनी आवश्यकता अनुसार कर सकता है। महीना अथवा तय समय सीमा समाप्त होने के बाद उपभोक्ता को बिल भेजा जाता है जो उपभोक्ता द्वारा उपयोग की गयी सर्विस की मात्रा निर्भर करता है।

उदाहरण : हम घरों में बिजली का उपयोग महीने भर करते है तथा महीना पूरा होने के बाद में हमें उसका बिल मिलता है।

FAQ :

क्या मोबाइल रिचार्ज के लिए भी पोस्टपेड सुविधा उपलब्ध है?

जी हाँ।

क्या होगा अगर मैं अपना पोस्टपेड बिल जमा न करूं?

अगर आप बिल का समय पर भुगतान नहीं करेंगे तो कंपनी द्वारा आपको फ़ोन कॉल, मैसेज या फिर लेटर भी आ सकता है और लेट फीस भी लग सकती है। अगर आप फिर भी भुगतान नहीं करेंगे तो आपका अकाउंट निष्क्रिय कर दिया जायेगा। यदि बिल की राशि अधिक है तो आपके खिलाफ क़ानूनी कार्यवाही भी हो सकती है।

शेयर करें

Leave a Comment