मुगल साम्राज्य का इतिहास PDF Download


इस पोस्ट में आपको मुग़ल साम्राज्य के इतिहास और शासकों की सूची की जानकारी देंगे और आप इसे pdf में भी डाउनलोड कर सकते है।

Mugal kal history in hindi pdf

मुगल साम्राज्य के शासक

मुग़ल साम्राज्य की स्थापना 1526 ई. में हुई इसके बाद मुग़ल शासकों ने 1707 ई. तक अपना शासन कायम रखा और 1857 तक ईस्ट इंडिया कम्पनी का शासन शुरू होते ही भारत में मुग़ल वंश का शासन  पूरी तरह से समाप्त हो गया।

मुग़ल सम्राज्य की स्थापना

1526 ई मैं बाबर और इब्राहिम लोदी के बीच में पानीपत का प्रथम युद्ध हुआ जिसमें बाबर ने दिल्ली सल्तनत के लोदी वंश के सुल्तान इब्राहिम लोदी को पराजित करके मुग़ल साम्राज्य की स्थापना की गई।

मुग़ल बादशाहों की सूची

बाबर मुग़ल साम्राज्य का संस्थापक था और औरंगजेब मुग़ल वंश का अंतिम शासक था।

बाबर (1526-1530 ई.)

हुमायूं (1530-1556 ई.)

अकबर (1556-1605 ई.)

जहाँगीर (1605-1627 ई.)

शाहजहाँ (1627-1658 ई.)

औरंगजेब (1658-1707 ई.)

बाबर का शासन काल 1526 से 1530 ई.

बाबर ने पानीपत के प्रथम युद्ध मे विजय प्राप्त करके मुग़ल साम्राज्य की स्थापना की थी। बाबर का जन्म 14 फरवरी 1483 ई. को फरगना (फरगना मध्य एशिया का एक क्षेत्र है) में हुआ था, बाबर का पूरा नाम “जहिरुदीन मुहमद बाबर” था। बाबर अपने पिता “उमर शेख मिर्ज़ा” की मृत्यु के बाद 11 वर्ष की आयु मैं शासक बन गया था। बाबर ने 1519 ई. में भारत के विरुद्ध प्रथम अभियान किया था और इस युद्ध मे बाबर ने “बाजोर” और “भेरा” को अपने अधिकार मैं कर लिया था।

1524 ई. में “राणा सांगा” ने बाबर को भारत पर आक्रमण करने के लिए निमंत्रण भेजा था और इसी के चलते बाबर ने 21 अप्रैल 1526 ई. में बाबर ने भारत पर आक्रमण कर दिया था जिसको जिसको “पानीपत के प्रथम युद्ध” के नाम से जाना जाता है और इसके बाद से भारत मे मुग़ल शासन काल शुरू हो गया, इसके बाद 17 मार्च 1527 ई. में “खानवा का युद्ध” बाबर और राणा सांगा के बीच मैं लड़ा गया जिसमें बाबर ने राणा सांगा को बुरी तरह हराया और विजय प्राप्त की और गाजी की उपाधि धारण की थी, और इसके बाद 29 जनवरी 1528 ई. में बाबर ने “चंदेरी के युद्ध” मे वहाँ के सूबेदार मेदिनी राय को पराजित किया, 6 मई 1529 को बाबर ने “घाघरा के युद्ध” में बंगाल एवं बिहार की संयुकत सेना को पराजित किया था और यह युद्ध बाबर द्वारा लड़ा उनके जीवन काल का आखरी युद्ध था। 26 दिसंबर 1530 ई. को बीमारी के कारण बाबर की मृत्यु हो गयी थी बाबर की अंतिम इच्छा अनुसार उसका शव काबुल लेजाकर दफनाया गया जहाँ उसका मकबरा बना हुआ है।

हुमायूं का शासन काल 1530 से 1556 ई.

हुमायूं बाबर का बेटा था और यह मुग़ल साम्राज्य का दूसरा शासक था हुमायूँ पहले 1530 से 1540 तक मुग़ल साम्राज्य का शासक रहा था और 1540 में मुग़ल वंश का राज 15 साल के लिए खत्म हो गया था 15 साल तक सुर वंश का राज रहा था उसके बाद 1555 में फिर से हुमायूं ने विजय प्राप्त करी फिर इसका 1556 तक राज रहा था। हुमायूं का जन्म 6 मार्च 1508 ई. को काबुल में हुआ था और हुमायूं का पूरा नाम “नसीरुद्दीन मुहम्मद हिमायुं” था।

26 दिसंबर 1530 ई. को बाबर की मृत्यु के बाद 30 दिसंबर 1530 ई. को 23 वर्ष की आयु में बाबर का राज्याभिषेक किया गया था। हुमायूं द्वारा भी कई युद्ध लड़े गए थे उनमें से कुछ यह है, 1531 ई. “कालिंजर का आक्रमण” युद्ध हिमायुं द्वारा लड्डा गया भारत मे प्रथम युद्ध था, यह युद्ध गुजरात के शासक “बहादुर शाह” की बढ़ती हुई शक्ति को रोकने के लिए किया गया था ताकि वोह उसके और नजदीक हो जाये और गुजरात पर आक्रमण कर सके परंतु यह युद्ध असफल रहा।

1532 ई. में “दहोरिया का युद्ध” लड़ा गया जिसमें हिमायुं ने दहोरिया नामक स्थल पर महमूद लोधी को पराजित किया था। 1532 ई. “चुनार का घेरा” इस युद्ध में हिमायुं ने 4 महीने तक चुनार को घेरे रखा आखिर शेर खा एवं हिमायुं में एक समझौता हो गया। 25 जनवरी 1939 ई. “चौसा का युद्ध” यह युद्ध हुमायूं और शेर खां के बीच गंगा नदी के उत्तरी तट पर स्तिथ “चौसा” नामक स्थान पर हुआ इस युद्ध मे मुग़ल सेना की बहुत तबाही हुई हिमायुं ने युद्ध खेत्र से भाग कर किसी तरह गंगा नदी पार कर अपनी जान बचाई थी।

17 मई 1940 ई. “किन्नौज का युद्ध” किन्नौज के इस युद्ध में हिमायुं के साथ उसके भाई हिन्दाल एवं अस्करी भी थे परंतु इस युद्ध मैं भी हिमायुं को विजय प्राप्त नही हुई। 15 मई 1555 ई. “माछीवारा का युद्ध” इस युद्ध में हिमायुं ने नसीब खां एवं तातार खां को पराजित कर दिया और सम्पूर्ण पंजाब मुग़लो के अधिकार मैं आ गया। 22 जून 1555 इ. “सरहिंद का युद्ध” इस युद्ध में हिमायुं ने अफगानों को प्रजाति किया और एक बार फिर से मुग़ल साम्राज्य कायम कर लिया। जनवरी 1556 ई. में सीढ़ियों से गिरने के कारण हिमायुं की मृत्यु हो गयी हिमायुं का मकबरा दिल्ली मैं स्थिति है।

अकबर का शासन काल 1556 से 1605 ई. तक

अकबर का जन्म 15 अक्टूबर 1542 ई. को अमरकोट के राणा वीरमल के महल में हुआ था अकबर हिमायुं एवं हमीदा बानो बेगम का पुत्र था। 14 फरवरी 1553 इ. को मात्र 13 वर्ष की आयु में उसका राज्याभिषेक करवा दिया गया था। 5 नवम्बर 1556 ई. पानीपत युद्ध (द्वितीय) अकबर एवं हिमायुं के बीच हुआ जिस में अकबर ने हिमायुं को पराजित किया।

1575 में अकबर ने “बुलंद दरवाजे” का निर्माण करवाया। 18 जून 1576 ई. “हल्दीघाटी का युद्ध” अकबर और महाराणा प्रताप के बीच लड़ा गया और अकबर ने महाराणा प्रताप को पराजित किया। 1605 ई. में अकबर की मृत्यु हो गयी थी इसका मकबरा आगरा के निकट सिकंदरा में स्थिति है।

जहाँगीर का शासन काल 1605 से 1627 ई. तक

30 अगस्त 1569 ई. को अकबर के पुत्र जहाँगीर का जन्म हुआ था। 3 नवम्बर 1605 ई. को इसका राज्याभिषेक किया गया था। गद्दी पर बैठते ही सर्वप्रथम जहाँगीर को अपने पुत्र खुसरो के साथ युद्ध करना पड़ा था, यह युद्ध भेरावल नामक स्थान पर किया गया था जिसके कारन इस युद्ध का नाम “भेरावल का युद्ध” पड़ा इस युद्ध मे जहाँगीर ने खुसरो को पराजित कर दिया था। सिक्खों के पांचवे गुरु अर्जुन देव जी ने खुसरो का समर्थन किया था जिसके कारण जहाँगीर ने अर्जुन देव पर राजद्रोह के आरोप लगाकर फांसी की सजा दे दी थी। जहाँगीर ने निसार नामक सिक्के का प्रचलन किया। नवम्बर 1627 में जहाँगीर की मृत्यु हो गयी थी।

शाहजहाँ का शासन काल 1627 से 1658 ई. तक

5 जनवरी 1592 ई. को जहाँगीर के पुत्र शाहजहाँ का जन्म लाहौर में हुआ था जो 1627 से 1658 ई. तक मुग़ल साम्राज्य का शासक रहा था और 1666 ई. में शाहजहाँ की मृत्यु हो गई थी।

औरंगजेब का शासन काल 1658 से 1707 ई. तक

3 नवम्बर 1618 ई. को औरंगजेब का जन्म हुआ था और इसने मुग़ल साम्राज्य पर 1658 से 1707 ई. तक राज किया था यह मुग़ल साम्राज्य का अंतिम शासक था 3 मार्च 1707 ई. में औरंगजेब की मृत्यु हो गयी थी।

इस पोस्ट को पीडीऍफ़ में डाउनलोड करने के लिए नीचे क्लिक करें

PDF Download

शेयर करें

Leave a Comment