SSD vs HDD Full Form | difference in hindi


कभी भी आप कंप्यूटर या लैपटॉप लेने की सोचते हैं तो आपके दिमाग मे यह सवाल आता होगा कि कंप्यूटर की स्टोरेज के लिए कौनसी ड्राइव लेना सही है। यह सोचते हुए आपके सामने दो विकल्प होते हैं: SSD और HDD

SSD और HDD यह दोनों ही कंप्यूटर में स्टोरेज डिवाइस के रूप में होती है लेकिन इन दोनों में काफी अंतर है जिसकी वजह से हम इन दोनों में से किसी एक विकल्प को चुनने के लिए परेशान हो जाते हैं लेकिन आज हम आपको SSD और HDD में अंतर के बारे में बताएंगे। जिसे जानने के बाद आप इन दोनों में से किसी एक का चुनाव करने के लिए परेशान नही होंगे। तो चलिए दोस्तों SSD और HDD के बारे में विस्तार से जानते है।

SSD और HDD

पोस्ट में ये जानकारी है -

HDD क्या है?

HDD को आईबीएम द्वारा 1956 में तैयार किया गया था,  HDD का पूरा नाम Hard Disk Drive है  यह एक स्टोरेज डिवाइस होती है। hdd एक ऐसी इलेक्ट्रॉनिक स्टोरेज डिवाइस है जो अपने पार्ट्स को मूव करके स्टोरेज को रीड और राइट करती है। इसमें डाटा रीड और राइट के लिए स्पिनिंग प्लेटर्स होते हैं जो घूमते हैं। जितनी तेजी से यह स्पिनिंग प्लेटर्स घूमते है उतनी ही तेज़ी से यह डाटा रीड और राइट करते हैं।

सामान्यतः 5400 आरपीएम से 7200 आरपीएम की स्पीड वाली hdd का उपयोग अधिक किया जाता है। काफी कम कीमत में ज्यादा स्टोरेज वाली ड्राइव के रूप में HDD मिल जाती है। जिसमे हम को 1TB या इससे अधिक तक के स्टोरेज वाली HDD मिल जाती है।

SSD क्या है?

 SSD का पूरा नाम Solid State Drive है  जैसा कि इसके नाम से ही पता चल रहा है कि यह एक स्टोरेज डिवाइस है। यह भी hdd की तरह डाटा स्टोर करने के लिए डिवाइस है जो लेपटॉप और कंप्यूटर में इस्तेमाल होती है। यह स्टोरेज डिवाइस नई टेक्नोलॉजी से बनी हुई है जिसके वजह से इसमें कोई पार्ट मूव नही करते

इसमें डाटा राइट और रीड का कार्य इलेक्ट्रॉनिक चिप द्वारा होता है। सिस्टम के बन्द होने के बाद भी इसमें डाटा सुरक्षित रहता है। यह hdd से 5 गुना ज्यादा तेजी से काम करती है वही इसकी कीमत देखी जाए तो hdd के मुकाबले काफी ज्यादा होती है। SSD के जल्दी खराब होने की संभावना बहुत कम होती है क्योंकि यह अपने किसी पार्ट को मूव किए बिना काम करती है। जिस लैपटॉप में यह स्टोरेज डिवाइस लगी होती है वो लेपटॉप भी काफी ज्यादा कीमत वाले होते हैं।

SSD और HDD में अंतर

  • SSD की स्पीड, HDD से चार गुना ज्यादा होती है जो की बहुत ज्यादा है और आपके के किसी काम को जो HDD मिनटों में करेगी, तो वहीं SSD अपनी तेज़ स्पीड की से उस काम को सेकंडों में कर देगी।
  • SSD बहुत तेज़ी से डाटा ट्रांसफर करता है जबकि HDD इससे कम स्पीड में कार्य करता है।
  • SSD में कोई मूविंग पार्ट नहीं होता जिसके कारण SSD की Life ज्यादा लंबे समय की होती है मतलब यह जल्दी खराब नही होती, वही HDD की Life इससे कम होती है।
  • SSD डाटा ट्रांसफर करते हुए या डाटा रीड और राइट करते हुए आवाज़ नही करती, HDD डाटा रीड और राइट करते हुए आवाज़ करती है क्योंकि यह काम करते हुए इसके अंदर के पार्ट मूव करते है।
  • SSD कम पावर का इस्तेमाल करती है जिसके चलते बैटरी ज्यादा समय तक चलती है, Hdd बहुत ज्यादा पावर का इस्तेमाल करती है जिससे बैटरी का भी ज्यादा इस्तेमाल होता है।
  • SSD महंगा होता है जिसकी वजह से यह ज्यादा स्टोरेज वाली नही बनाई जाती वही hdd इसकी तुलना में सस्ता होता है जिसके कारण यह 1TB से भी ज्यादा स्टोरेज में मिल जाती है।

यह सब अंतर जानने के बाद आप खुद SSD और HDD में से सही स्टोरेज डिवाइस का चुनाव कर सकते हो यदि आपको कम स्टोरेज के साथ ज्यादा स्पीड वाली स्टोरेज डिवाइस चाहिए तो SSD विकल्प का चयन करना सही होगा वही यदि आपको काम कीमत में ज्यादा स्टोरेज वाली डिवाइस चाहिए तो आप HDD का चयन कर सकते हो।

शेयर करें